सांसों की दुर्गंध (हैलिटोसिस) के लिए 12 अद्भुत घरेलू उपचार

सांसों की दुर्गंध (हैलिटोसिस) के लिए 12 अद्भुत घरेलू उपचार 

सांसों की दुर्गंध वह है जिसमें ब्रश करने और धोने के बाद भी मुंह से दुर्गंध आती है। इस स्थिति को पुरानी सांसों की बदबू, मुंह से दुर्गंध या भ्रूण की ओरिस कहा जाता है। सांसों की दुर्गंध विभिन्न आंतरिक खराबी का संकेत हो सकती है। सांसों की दुर्गंध के मूल कारण का पता लगाने के लिए निश्चित रूप से एक दंत चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए। यदि आप अंतर्निहित कारण को जानते हैं तो सांसों की दुर्गंध के लिए विशिष्ट और लक्षित घरेलू उपचार भी हैं, और यदि उनका नियमित रूप से पालन किया जाए तो वे सांसों की दुर्गंध को पूरी तरह से समाप्त करने में लाभकारी होंगे।

सांसों की दुर्गंध के लिए घरेलू उपचार

आइए देखते हैं सांसों की दुर्गंध के लिए कुछ बेहतरीन घरेलू उपचार:

1. नींबू का रस: एक चम्मच नींबू के रस में चुटकी भर नमक मिलाकर सांस में आने वाली लहसुन और प्याज की दुर्गंध को दूर किया जा सकता है। सांसों की दुर्गंध के लिए एक प्रभावी और आसान उपाय होने के अलावा, यह आपको भारी या मसालेदार भोजन के बाद भी तरोताजा महसूस कराता है। अनुसंधान ने साबित कर दिया है कि नींबू के आवश्यक तेल सहित आवश्यक तेलों से बने माउथवॉश सांसों की बदबू के इलाज में मदद कर सकते हैं।

2. लौंग: लौंग में बहुत मजबूत एंटीसेप्टिक गुण होते हैं जो सांसों की दुर्गंध पैदा करने वाले बैक्टीरिया को मार सकते हैं। 3-4 लौंग को पीसकर एक कप पानी में डालकर उबाल लें। फिर इसे एक महीन जाली से छान लिया जाता है और गरारे करने के लिए उपयोग किया जाता है।

3. अजमोद, पुदीना - तुलसी: अजमोद, पुदीना और तुलसी के पत्तों को चबाया जा सकता है क्योंकि वे आंतों में गैस के उत्पादन को कम करते हैं और लंबे समय तक ताजी सांस लेते हैं।

4.इलायची: इलायची को अक्सर भोजन के बाद श्वास फ्रेशनर के रूप में लिया जाता है। जब इसे चबाया जाता है, तो यह एक मीठी महक वाला तेल पैदा करता है और आपके मुंह में स्वाद को बेहतर बनाता है। इलायची में सिनेओल होता है, एक सक्रिय घटक जिसमें शक्तिशाली एंटीसेप्टिक गुण होते हैं। सिनेओल उन जीवाणुओं को मारता है जो सांसों की दुर्गंध को ठीक करते हे

5.सौंफ के बीज: सौंफ को सीधे या पीसकर पाउडर बनाया जा सकता है और फिर ताजा सांस के लिए ब्रश करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। अर्क को जीभ और मसूड़ों पर भी लगाया जा सकता है।

6. दालचीनी: दालचीनी लहसुन और प्याज की गंधक की गंध को अवशोषित कर सकती है। एक दालचीनी की छड़ी का एक छोटा टुकड़ा कुछ समय के लिए मुंह में तब तक रखा जा सकता है जब तक कि सड़ा हुआ गंध दूर न हो जाए।

7.सेब, गाजर - नाशपाती: सेब, गाजर और नाशपाती जैसे फल फाइबर से भरपूर होते हैं। ये फल चबाने पर लार पैदा करते हैं और इन्हें खाने से दांतों को साफ करने में भी मदद मिलती है।

8.मिंट और विंटरग्रीन: पुदीना और विंटरग्रीन सांसों की दुर्गंध को बेअसर करते हैं और मुंह में ताजगी लाते हैं। यही कारण है कि ये ज्यादातर टूथपेस्ट और माउथवॉश में मौजूद होते हैं। डॉक्टर्स बुक ऑफ होम रेमेडीज ने सांसों की दुर्गंध से निपटने के लिए मिंट और विंटरग्रीन माउथवॉश के साथ-साथ मिंट गम के इस्तेमाल की सलाह दी है।

9.सेब का सिरका: भोजन से पहले एक चम्मच सेब का सिरका एक गिलास पानी के साथ लिया जा सकता है, जिससे पाचन में सुधार होता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि सांसों की दुर्गंध आपके पाचन तंत्र द्वारा उत्पादित अतिरिक्त एसिड या "खराब" आंत बैक्टीरिया के कारण हो सकती है।

10.अजमोद, लौंग - लोहबान चाय: अजमोद के पत्तों, लोहबान पाउडर (1 चम्मच), और साबुत लौंग (2-4) को उबालकर बनाई गई चाय को कुछ दिनों के लिए पीसा और संग्रहीत किया जा सकता है। इसे दिन में 2-3 बार माउथवॉश के रूप में इस्तेमाल करना चाहिए।

11. मीठा सोडा: एक चुटकी बेकिंग सोडा से दांतों को ब्रश किया जा सकता है। इससे मुंह में एसिडिटी कम होती है और आपकी सांसों की गंध में सुधार होता है।

इन उपचारात्मक प्रक्रियाओं के साथ, उचित मौखिक स्वच्छता का अभ्यास किया जाना चाहिए, जिसमें समय पर सफाई, फ्लशिंग और आपके मुंह की सफाई शामिल है। नियमित डेंटल चेकअप में कैविटी को भरना और अपने दांतों को साफ करना शामिल होना चाहिए। यह आपको एक हंसमुख मुस्कान के साथ एक आत्मविश्वासी व्यक्ति बना देगा!

एक टिप्पणी भेजें

if you have any doubts, please me know

और नया पुराने